कविताएं और भी यहाँ ..

Friday, April 19, 2013

सिर्फ वही बेमिसाल है...


जो क्षितिज पे है ,
वो विशाल है ,
सिर्फ वही बेमिसाल  है ?

जो पास है,
जो साथ है,
जो आज अपने
हाथ है,
उसकी कोई बिसात है ?

वो जो सूर्य है ,
वो तेज़ है ,
वो उग्र है,
पर रात भर
जो दिया  जला,
सुबह तलक
वो बुझ गया ,
उसकी क्या
औकात है ?

जो नज़दीक था
एक उम्र ,
उसकी कोई क़द्र है ?
या फिर
उसकी याद भी ,
सर्द है ?

जो ना मिला ,
उसके बिना ,
ज़िन्दगी का ,
हिसाब क्या ?

पर ज़िन्दगी ,
कोई सामान है  ?
फिर नकाब क्यों ,
इसका फिर
हिसाब क्यों ?
इसमें भी
नुक्सान नफा ?

ज़िन्दगी ना हुई,
दूकान हुई ,
हर साँस भी ,
सामान हुई ?
भूल हुई ,
या चूक थी ,
जो पास था ,
नाखास था ,
नज़र में ,
तो सिर्फ चाँद था ,
कि जो दूर है ,
वही ख़ास है ,
वही बेमिसाल है ..

2 comments:

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बेहतरीन अभिव्यक्ति

Mayank Goswami said...

Shukriya sangeeta ji.