कविताएं और भी यहाँ ..

Thursday, October 1, 2009

मेरी प्यास को किसी दरिया कि तलाश है
आँखों को लगता है कि कोई ख्वाब आस पास है

2 comments:

संजय भास्कर said...

बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
ढेर सारी शुभकामनायें.

SANJAY KUMAR
HARYANA
http://sanjaybhaskar.blogspot.com

Dil, Duniya aur Zindagi said...

शुक्रिया